इनिशियल कॉइन ऑफरिंग (ICO) क्या है [प्रकार, कैसे लांच करे, नियम]

What is Initial Coin Offering, ICO, Definition, Benefits, Types, Purpose, Terms, Examples, How to Launch, Cryptocurrency, Cons (इनिशियल कॉइन ऑफरिंग क्या है , परिभाषा, लाभ, प्रकार, उद्देश्य, नियम, उदाहरण, कैसे लांच करे, क्रिप्टोकरेंसी, नुक्सान)

वर्तमान समय में क्रिप्टोकरेंसी की बहुत हाइप चल रही है तथा यह ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर आधारित है क्रिप्टो से जुडी हुई एक टर्म है जिसका ज्ञान होना बहुत आवश्यक है यह ICO है जिसके बारे में इस लेख में बताया गया है इस लेख में आईसीऔ से समबन्धित चीज़े जैसे परिभाषा, लाभ, प्रकार, उद्देश्य, नियम, उदाहरण, कैसे लांच करे आदि के बारे में बताया गया है

इनिशियल कॉइन ऑफरिंग क्या है (What is Initial Coin Offering in Hindi)

इनिशियल कॉइन ऑफरिंग (Initial Coin Offering) एक ऐसा तरीका है जिनमे क्रिप्टोकरेंसी के माध्यम से फंडिंग प्राप्त की जाती है यह एक इनोवेटिव तरीका है जिसमे एक कंपनी के द्वारा नई क्रिप्टो को लांच किया जाता है मनी राइज की जाती है यह एक प्रकार से क्राउडफंडिंग ही होती है

जिस प्रकार से एक कंपनी के द्वारा मनी राइज करने के लिए आईपीओ लांच किया जाता है उसी प्रकार ICO होता है इसे इनिशियल करेंसी ऑफरिंग (Initial Currency Offering) भी कहा जाता है

initial coin offering in hindi

इनिशियल कॉइन ऑफरिंग के लाभ (Advantages of Initial Coin Offering)

  • कोई भी व्यक्ति टोकन को खरीद सकता है
  • इन्हे सम्पूर्ण विश्व बेचा तथा ख़रीदा जा सकता है
  • आईपीओ की तुलना में आईसीओ में अधिक एडवांटेज होते है
  • इसके जरिये कंपनी फण्ड एकत्रित कर सकती है
  • इसमें लिक्विडिटी(liquidity) पाई जाती है

इनिशियल कॉइन ऑफरिंग के कई लाभ है तथा इसकी कई विशेषतायें भी है जैसे की ICO लांच होने के बाद टोकन को कोई भी व्यक्ति खरीद सकता है और इसे किसी भी देश का व्यक्ति बेच तथा खरीद भी सकता है ICO एक तरीका है जिसके माध्यम से एक कंपनी अपने टोकन के जरिये फण्ड एकत्रित करती है

यह भी पढ़ेटेथर क्या है

ICO के दोष (Disadvantages of Initial Coin Offering)

  • इसमें निवेशकों को फायदा तथा जोखिम दोनों उठाने पड़ सकते है
  • ICO के नाम पर कई प्रकार के स्कैम भी हो चुके है
  • इसमें टोकन की प्राइस अस्थिर रहती है

इनिशियल कॉइन ऑफरिंग के बहुत सारे फायदे होने के साथ – साथ इसके कई नुक्सान भी है तथा बहुत बार ICO से जुड़े हुए कई स्कैम भी देखने को भी मिले है इसलिए एक टोकन में इन्वेस्ट करने से पहले प्रोजेक्ट की जानकारी जरूर ले तथा इन्वेस्ट करने से पहले अपने फाइनेंसियल एडवाइजर से भी जरूर सलाह ले कई बार ऐसा हुआ है की ICO लांच होने के बाद कॉइन का प्राइस 1000 गुना तक बढ़ा है लेकिन बाद में यह बहुत कम हो गया है ऐसे में लोग प्राइस बढ़ता देखकर इसमें इन्वेस्ट कर देते है और बाद में उन्हें बहुत बड़े नुक्सान का सामना भी करना पड़ता है

types of initial coin offering

ICO के प्रकार (Types of Initial Coin Offering)

  • प्राइवेट (Private ICO)
  • पब्लिक (Public ICO)

यह भी पढ़ेबिटकॉइन क्या है

प्राइवेट आईसीओ (Private Initial Coin Offering)

प्राइवेट आईसीओ (इनिशियल कॉइन ऑफरिंग) के अंतरगत कुछ लिमिटेड इन्वेस्टर को ही इन्वेस्टमेंट करने का मौका दिया जाता है इसमें अधिकांशत उन इन्वेस्टर को पार्टिसिपेट करने का मौका मिलता है जिसकी नेट वर्थ अधिक होती है इसमें कंपनी यह तय करती कितना मिनिमम अमूत इन्वेस्टर इन्वेस्ट कर सकते है

पब्लिक आईसीओ (Public Initial Coin Offering)

पब्लिक आईसीओ (इनिशियल कॉइन ऑफरिंग) के अंतरगत कोई भी आईसीओ में इन्वेस्ट करके इन्वेस्टर बन सकता है एक क्राउड फंडिंग की तरह ही होती है इनमे पब्लिक को टारगेट किया जाता है अर्थात इसमें कोई भी व्यक्ति इन्वेस्ट कर सकता है आईसीओ का उपयोग किसी क्रिप्टोकरेंसी को लॉन्चिंग के समय में पॉपुलर बनाने के लिए किया जाता है

आईसीओ रेगुलेशन (ICO Regulation)

वर्तमान समय में आईसीओ के लिए किसी भी प्रकार का रेगुलेशन नहीं है तथा आईसीओ कोई भी लांच कर सकता है इनिशियल कॉइन ऑफरिंग पर अभी किसी भी प्रकार का रेगुलेशन न होने के कारण कई स्कैम भी देखे भी गए है यूनाइटेड स्टेट में भी अभी आईसीओ के लिए किसी भी प्रकार का रेगुलेशन नहीं है

यह भी पढ़ेक्रिप्टोग्राफी क्या है

आईसीओ कौन लांच कर सकता है (Who Can Launch an ICO)

आईसीओ कोई भी व्यक्ति लांच कर सकता है लेकिन इसके लिए आपको प्रॉपर टेक्नोलॉजी की नॉलेज होने की आवश्यकता है और इसके लिए आपको टोकन लांच करना होगा यदि कोई इन्वेस्टर आपके टोकन में इंटरेस्टेड होगा तो वह इसमें इन्वेस्ट कर सकता है

आईसीओ के उदाहरण (Examples of ICO)

  • एथेरेयम (Ethereum)
  • स्टोरज (Storj)
  • डीएओ (DAO)
  • बनकर (Bancor)
  • सिरिन लैब्स (Sirin Labs)
  • फाइल कॉइन (Filecoin)

यह भी पढ़ेपोलीगोन क्रिप्टो क्या है

निस्कर्ष (Conclusion)

भारत में अभी क्रिप्टो का बहुत क्रेज है लेकिन लोगो को इससे जुडी आवश्यक जानकारी पता नहीं है इसमें कारण उन्हें बहुत सरे लॉस का सामना भी करना पड़ता है इसलिए किसी भी टोकन या क्रिप्टो में इन्वेस्ट करने से पहले उनकी जानकारी जरूर ले और स्कैम से बचे क्रिप्टो कॉइन का फंडामेंटल तथा टेक्निकल एनालिसिस जरूर करे

आईसीओ से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी देने की कोशिश हमने इस लेख में की है यदि आपको इसके बारे में और अधिक जानकारी चाहिए तो आप कमेंट में अपना टॉपिक लिख सकते है जोकि इनिशियल कॉइन ऑफरिंग से सम्बंधित हो आप क्रिप्टोकरेंसी से समबन्धित टॉपिक के बारे में भी पूछ सकते हैयदि यह लेख आपको अच्छा लगा है तो आप निचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपना सवाल पूछ सकते है आपके द्वारा पूछे गए सवाल का जबाब देने का जरूर प्रयास किया जायेगा

FAQ’s

ICO के प्रकार बताइये?

प्राइवेट (Private ICO)
पब्लिक (Public ICO)

कुछ आईसीओ के उदाहरण बताये?

एथेरेयम (Ethereum)
स्टोरज (Storj)
डीएओ (DAO)

क्या आईसीओ के लिए अभी कोई रेगुलेशन है?

वर्तमान समय में आईसीओ के लिए किसी भी प्रकार का रेगुलेशन नहीं है

क्या कोई भी ICO में इन्वेस्ट सकता है?

हाँ कोई भी व्यक्ति जोकि किसी भी देश का हो वह ICO में इन्वेस्ट कर सकता है

AVSVishal (Vishal Bhardwaj)

मेरा नाम विशाल भारद्वाज है और मैं Blogging और Youtube पर काम AVSVishal के नाम से करता हूँ मैं 2015 से Blogging कर रहा हूँ

This Post Has One Comment

  1. Deepak Kushwaha

    Hilo sir please help me for new blog Carte karne ma please sir 🙏🙏🙏

Leave a Reply